Wednesday, September 28, 2011

जीवन है संघर्ष

जीवन है संघर्ष अनवरत 
मृत्यु अटल विश्राम है 

जीवन संघर्ष से इंकार मगर
कायरों  का ही काम है 
जो जीते जीवन समर को 
मृत्यु विश्राम उसका इनाम है 

माना ये संग्राम विकट है 
तेरा मनन भी हुआ विकल है 
मगर इस समर में विजय पाने को
हिम्मत तेरी दुधारी तलवार है 

रिश्ते नाते अहम्  बहुत हैं 
अहम् जीवन में प्यार भी है 
मगर पहला प्यार जीवन का
तेरा स्वयं होने का एहसास ही है

माना दुःख कष्टों के घन सघन हैं
राह में कंटक विस्तार है 
मगर जीवन में आगे बढ़ने का 
तुझे मिला वरदान है 

बावरे .... तू है तो ही जीवन को 
मिलता हर आयाम है